MENU X
Cityofjaipur.com पर आपका स्वागत है। आपका गाइड - जयपुर में घूमने, मौज-मस्ती करने, रहने, काम करने और निवेश करने के लिए।

ताज़ा समाचार

दिल्ली-जयपुर राजमार्ग संख्या-11 पर सोमवार शाम दो कारों में जबरदस्त भिडंत हो गई। हादसे में 2 महिलाओं की मौत जबकि 11 अन्य घायल हो गए। एक मारूती कार को मारुती इटिओस ने टक्कर मारी।

प्रदेश में राष्ट्रीय कैंसर, डायबीटिज, कार्डियोवेसक्लूयर और हृदयाघात जैसी असंक्रामक बीमारियों की रोकथाम और उपचार के प्रति विशेष गंभीरता बरती जाए।

पुलिस कमिश्नर संजय अग्रवाल ने सभी पुलिस अधिकारियों से सुनिश्चित करने को कहा है कि रात आठ बजे बाद कोई भी शराब की दुकान खुली नहीं रहनी चाहिए।

सर्व ब्राह्मण महासभा की ओर से मोती डूंगरी स्थित गणेशजी के मंदिर में रविवार सुबह 9:30 बजे गणेश निमंत्रण के साथ 15 दिन तक संपूर्ण प्रदेश में होने वाले भगवान परशुराम जयंती समारोह की विधिवत शुरुआत की गई।

जयपुर के कार्टिंस्ट ने जयपुर नगर निगम के साथ मिलकर की एक खास मुहिम जिसके तहत कार्टिंस्ट ने 15 कचरे उठाने वाले ट्रक को किया। कला के रंगों से सराबोर हर एक ट्रक पर एक अलग शैली में कलाकृतियां बनाई गई है।

बीते दिनों से पेपर लीक प्रकरण में एसओजी की ओर से की जा रही ताबड़तोड़ कार्यवाही के बाद राजस्थान विवि के शिक्षकों में भारी खौफ है। इसके चलते विवि कैंपस में शिक्षक और कर्मचारी घबराए हुए हैं।

मालवीय नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, जयपुर ने फील्ड ऑफिसर, ऑफिस सहायक व विभिन्न 31 पदों की भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित किए है। योग्य औऱ इच्छुक उम्मीदवार 24 अप्रैल 2017 तक अावेदन कर सकते है।
जयपुर को छोटी काशी के रूप में भी जाना जाता है। यहाँ इतने मंदिरों का निर्माण हुआ है कि जयपुर आज मंदिरों के शहर के रूप में भी जाना जाता है। आईये जानते हैं जयपुर शहर के कुछ शिव मंदिरों के बारे में…
जयपुर अपनी ऐतिहासिक वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध है ।
नाहरगढ़ किले को जयपुर के राजा सवाई जय सिंह द्वारा बनाया गया था। इस किले का निर्माण कार्य 1734 में पूरा किया गया, हालांकि बाद में 1880 में महाराजा सवाई सिंह माधो द्वारा किले की विशाल दीवारों और बुर्जो का पुननिर्माण भी करवाया गया था।
आमेर का किला राजस्थान की राजधानी जयपुर शहर से 11 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। राजस्थान में आमेर का किला प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। आमेर किले का निमार्ण राजा मानसिंह प्रथम ने 1592 ई.वी. में करवाया था।
जयपुर के 289th वे स्थापना दिवस पर पढ़िए जयपुर शहर की कुछ कहानियाँ जो आपको बताएंगी कि ये शहर कैसे बढ़ा और कैसे अपना रूप बदलता गया |
यहां आज तक जयपुर के सभी महाराजाओं की सूची है।
जयपुर की राजमाता महारानी गायत्री देवी के बारे मे जानिए।
विद्याधर भट्टाचार्य एक बंगाली वास्तुकार थे उन्होंने विद्याधर गार्डन का निर्माण गलता के पास किया गया था।
जयपुर शहर उत्तरी भारत के सबसे सुंदर और मनमोहक शहरों में से एक है| जयपुर से जुडी कहानियों, इतिहास, तथ्यों, आंकड़ो और पर्यटको के बारे में जानिए|
सब जानते हैं कि दिवाली का त्योहार भगवान राम के 14 साल वनवास पूरा करके अयोध्या वापिस आने की ख़ुशी में मनाया जाता है। पर इस त्योहार को मनाने के पीछे और भी कारण है।
गुलाबी शहर जयपुर 1727 ईस्वी में महाराजा सवाई जय सिंह द्वितीय (आमेर के राजा) द्वारा स्थापित किया गया था| शहर का नाम उन्ही के नाम पर रखा गया है। उस वक्त महाराजा जय सिंह सिर्फ 11 साल के थे।

पर्यटको के लिए जानकारी

पर्यटको के लिए जानकारी

जयपुर परिवहन के बारे में सारी जानकारी आपको यहाँ मिलेगी । जानिए कैसे जयपुर पहुंचना है, यहाँ कैसे घूमना है, जयपुर बस और जयपुर मेट्रो के रूट क्या हैं, और भी बहुत कुछ । यह जानकारी जयपुर में रहने वाले और यहाँ बहार से आने वाले दोनों के लिए ही सुविधाजनक है।