MENU X
जयपुर मंदिर और धार्मिक स्थान


जयपुर गुलाबी नगर में कई गौरवशाली मंदिर और धार्मिक स्थल है । इन मंदिरों में से अधिकांश बीते युग के शासकों द्वारा निर्मित किये गए है और इस प्रकार वो हमें राजपूताना भव्यता की याद दिलाते है । जयपुर शहर में धार्मिक पक्ष मा शुल्क और परंपराओं के माध्यम से परिलक्षित होता है, विशेष रूप से त्योहारों के दौरान। प्राचीन मंदिरों, मंडप, पवित्र 'कुंड' और अन्य धार्मिक स्थल जयपुर में स्थित है।

बिरला मंदिर

बिरला मंदिर जयपुर के केन्द्र में स्थित है जहाँ गुलाबी शहर के सभी हिस्सों से आसानी से पहुँचा जा सकता है। यह लक्ष्मी नारायण मंदिर के रूप में जाना जाता है। यह शहर के परंपरागत प्राचीन सबसे पुराने हिंदू मंदिरों में से एक है। शुद्ध सफेद संगमरमर से निर्मित, यह हिंदू मंदिर भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी को समर्पित है। आप यहाँ से मोती डूंगरी किले को देख सकते हैं। इसके धार्मिक महत्व के अलावा, इस मंदिर के रूप में अच्छी तरह से अपनी वास्तुकला के सौंदर्य के लिए जाना जाता है। यह इस शहर के एक वास्तुशिल्प मील का पत्थर है। 

गोविन्ददेव जी मंदिर

यहभगवान कृष्ण को समर्पित है गोविंद देवजी मंदिर सिटी पैलेस परिसर में स्थित है। यहाँ पर भगवान कृष्ण छवि महाराजा सवाई जय सिंह द्वितीय ने वृंदावन (भगवान कृष्ण की भूमि) से लायी गयी थी। यह माना जाता है कि इस छवि एक समय था जब वह पृथ्वी पर अवतीर्ण में कृष्ण के रूप की एक सटीक प्रतिकृति का रूप थी।

सेंट एंड्रयू चर्च

जयपुर के दिल में स्थित है, चांदपोल गेट के बाहर,यह चर्च एक विश्व प्रसिद्ध धरोहर का प्रतीक है। यह राजस्थान के सबसे पुराने चर्चों में से एक है। स्कॉटिश मिशनरीज वर्ष में यह स्थापित किया गया था 1872 में 08:30 बजे से सप्ताह के सभी दिन खुला रहता है। गर्मियों के दौरान और 9:00 से देर शाम तक सुबह में सर्दियों के दौरान देर शाम तक।  जो लोग यीशु के लिए अपार प्रेम रखते है वो यहाँ पर आते है जो बहुत लोकप्रिय है ।

तारकेश्वर महादेव मंदिर

भगवान शिव का तारकेश्वर महादेव मंदिर चौड़ा रास्ता में स्थित मंदिर है। जयपुर शहर में यह एक प्रमुख तीर्थ स्थल है। 1784 ईस्वी में निर्मित यह मंदिर धार्मिक महत्व का एक बहुत अच्छा उदाहरण है। 'शिवलिंग ' यहां काले पत्थर में बनाई गई 9 इंच की एक व्यास है। इस मंदिर के मुख्य आकर्षणों में से कुछ सुनहरे पिक्टोग्राफ, पीतल और सुंदर घंटी से बना विशाल बैल प्रतिमा शामिल हैं। इस मंदिर में सावन के महीने में बहुत भीड़ होती है। महाशिवरात्रि के दिन भी यह विशाल भीड़ होती है । और सोमवार को भी बहुत भीड़ होती है । 

गुरुद्वारा साहिब

गुरुद्वारा साहिब गुरु नानक साहब का है यह हनुमान नगर में है यह जयपुर में स्थित है रविवार को यहाँ पर सैकड़ों लोग आते है और यहाँ पर भंडारा चढ़ाते है । इस गुरुद्वारे में जयपुर के पश्चिम और आसपास के क्षेत्र के लोग भी आते है। हर रविवार, 'गुरू का लंगर' पेश किया जाता है। 'लंगर' भी ' गुरुपरबस' पर आयोजित किया जाता है। यह गुरुद्वारा भवन 3871 वर्ग मीटर क्षेत्र में फैला हुआ है ।

मोती डूंगरी मंदिर

बिरला मंदिर के पास स्थित इस मंदिर शहर के सबसे पुराने और सबसे लोकप्रिय मंदिरों में से एक है। यह भगवान गणेश, जो बेहद सकारात्मक वाइब्स को दर्शाता है की एक मनभावन मूर्ति सेठ जय राम पालीवाल द्वारा निर्मित यह मंदिर खूबसूरती से पत्थर बनाया गया है। यह सबसे अच्छा संगमरमर और कलात्मक पौराणिक छवियों पर अपने आश्चर्यजनक जाली काम के लिए जाना जाता है। आप अक्सर मंदिर भीड़ और उत्सव की तैयारी, विशेष रूप से गणेश चतुर्थी और पौष बड़ा दौरान साथ हलचल मिल जाएगा।

गढ़ गणेश मंदिर

अरावली की पहाड़ियों के पास नाहरगढ़ और जयगढ़ के बीच गढ़ गणेश मंदिर भगवान गणेश को समर्पित है । यह माना  जाता है कि एक बच्चा पुरुषाकृति के रूप में यहाँ रहता था । तब ये मंदिर महाराज सवाई जय सिंह ने अश्वमेघ यज्ञ किया था तब स्थापना की थी उससे पहले ये मंदिर बनवाया गया था ।

यह मंदिर ब्रह्मपुरी में बहुत ऊचाई पर बना हुआ है । इस मंदिर में चढ़ने के लिए बच्चो और बड़ो दोनों को मजा आता है । इस मंदिर के ऊपर चढ़ने के बाद जयपुर के अधिकाश हिस्से दिखाई देते है । इस मंदिर के ऊपर से जयपुर की जितनी भी बड़ी इमारते है वो बहुत ही सुंदर और रोमांचित लगती है ।

गलता जी

गलता जी एक पूर्व ऐतिहासिक हिन्दू तीर्थ स्थल, जयपुर स्थित 10 किमी पूर्व में है। जटिल मंदिरों, प्राकृतिक ताजा पानी स्प्रिंग्स और 7 पवित्र 'कुंडस' जिसमें कई तीर्थयात्रियों को स्नान की एक श्रृंखला के होते हैं। एक पहाड़ी की चोटी मंदिर जयपुर शहर के तेजस्वी विचारों को प्रदान करता है। गलता जी मंदिर परिसर में बंदरों के अपने कबीले, जो वहाँ पर हर जगह के आसपास देखा जा सकता है यह पर्यटकों और फोटोग्राफरों के बीच अपनी वास्तुकला, प्राकृतिक सुंदरता और बंदरों के लिए जाना जाता है।

जामा मस्जिद

जामा मस्जिद जौहरी बाजार रोड पर स्थित है यह मुसलमानों का लोकप्रिय पूजा स्थल है । जामा मस्जिद की इमारत के दोनों किनारो पर दुकाने है । जामा मस्जिद  जयपुर के बाजार में स्थित है । इसके बरामदे दुकानदारों के साथ लम्बी लड़ाई के बाद खाली करवाये गये थे । यहाँ पर भक्तो की भीड़ लगी रहती है और शुक्रवार को ज्यादा भीड़ होती है ।

भगवान का भारतीय पेंटेकोस्टल चर्च

यह न्यू सांगानेर रोड के विपरीत लज़ीज़ रेस्टोरेंट पर स्थित है । इस चर्च में लोगो को बहुत ही शांति मिलती है और लोग यहाँ पर आते है । यहाँ पर  प्रवेश  बहुत ही सुखद अनुभव का अहसास होता है । लोग यहाँ आते है बैठते है और प्रार्थना करते है यहाँ पर सकारात्मकता के वातावरण का आनंद लेते है । यह शहर का सबसे पुराना  चर्च है । चर्च सुबह 9:00  और 12:00 तक खुलता है विशेष प्रार्थना के लिए हर रविवार 9:30 से 1:30 तक खुलता है ।

स्वामीनारायण मंदिर – अक्षरधाम

स्वामीनारायण मंदिर, आमतौर पर अक्षरधाम मंदिर कहा जाता है, चित्रकूट, जयपुर में स्थित है। एक प्रमुख आकर्षण अपनी शानदार स्थापत्य शैली और स्वच्छ और विशाल परिसर है। मंदिर परिसर में एक खूबसूरत जगह अकेले या परिवार और दोस्तों के साथ कुछ समय बिताने के लिए कर रखी हैं। यहाँ पर परंपरागत ढंग से पहन कर जाना चाहिए कि इस तरह अपने कंधों और घुटनों को ठीक से कवर करके तुम अगर आप शॉर्ट्स या घुटने की लंबाई की तुलना में छोटे स्कर्ट पहन रखे हो तो प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

चूलगिरी जैन मंदिर

जयपुर आगरा राजमार्ग पे अरावली की पहाड़ियों के ऊपर चूलगिरी जैन मंदिर एक पवित्र धार्मिक स्थल है । यहाँ यात्रा करने के लिए के बहुत अच्छी रोमांचित जगह है । यह जगह यूआओ को अपनी और आकर्षित करती है । यह मंदिर सफेद पत्थर से बना है यहां पर जैन तीर्थकर पाश्वनाथ की 7 फुट ऊँची मूर्ति है भगवान महावीर और नेमिनाथ की 3.5 फ़ीट ऊँची मूर्ति है । यह मंदिर अपनी प्राकृतिक सुंदरता और वास्तुकला के लिए जाना जाता है

काले हनुमान जी मंदिर

जयपुर में सिटी पैलेस के पास में काले हनुमान जी का मंदिर 1000 साल पुराना है । ये भगवान हनुमान की मूर्ति जो काले रंग के लिए प्रसिद्ध है। हालाँकि ज्यादातर भगवान हनुमान की मूर्ति या तो लाल होती है या नारंगी होती है । जयपुर के लोग यहां पर बड़ी श्रद्धा से पूजा करते है लोग बड़े विश्वास के साथ यहाँ पर पूजा करते है यही इस मंदिर की लोकप्रियता का कारण है । इस मंदिर की वास्तुकला बहुत ही सूंदर है ।

खोले के हनुमानजी मंदिर

दिल्ली जयपुर राजमार्ग पर स्थित खोले के हनुमानजी भगवान हनुमान का मंदिर है जो भगवान राम के शिष्य है । जयपुर के लोगो को इस मंदिर पे विश्वास से है जो लोगो को मंदिर ले जाता है इस मंदिर में हमेशा भीड़ रहती है । राज्य के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक माना   जाता है । यहाँ पर मंगलवार और शनिवार को लोगो की भीड़ रहती है । यहाँ पर पर्यटक भी बहुत धूमने के लिए आते है ।

 


You May Also Like

Albert Hall, Jaipur was captured by a calligraphy artist from Iran named Kaveh Afraie. It will now be displayed at the Art for Peace festival.

The state of Rajasthan has been blessed with plentiful of rainfall this year.

Celebrate the wonderful festival of Rakshabandhan in Jaipur, which is a day that marks the ties between a brother and sister.

Where can you see the tricolour in Jaipur this Independence Day? Read to find out.

Monday, May 9, 2016: Planet Mercury will be seen crossing over the Sun in form of a small dot from 4:42p.m. to 12:12a.m.