MENU X
थानों और कंट्रोल रूम में भीड़ की जरूरत नहीं  - राजकॉप सिटीजन ऐप से बनवा सकेंगे लॉकडाउन व्हीकल पास


राजस्थान पुलिस के राजकॉप सिटीजन ऐप से अब शहर और शहर के बाहर जाने के लिए पास बनवा सकेंगे । फिलहाल यह सुविधा ऑफलाइन है और पास अजमेरी गेट स्थित पुलिस कंट्रोल रूम और थानों में बनाए जा रहे हैं । भीड़ कम करने के लिए पुलिस की ओर से यह कवायद की गई है । इसके लिए आवेदक को एसएसओ आईडी से राजकॉप सिटीजन एप पर लॉगइन करना होगा । जहां पास का ऑप्शन दिखाई देगा । लॉकडाउन पास पर क्लिक करने से ' पास रिक्वेस्ट का आवेदन खुलेगा । इसमें नाम , उम्र , मोबाइल नंबर , जिला , थाना , प्रोफेशन , मार्ग, वाहन संख्या, यात्रा के लिए कारण भरना होगा।

 - जनता की सुविधा के लिए यह कवायद की गई है आने वाले दिनों में ऐप में लगातार इम्पूवमेंट होते रहेंगे ।
 अफ़सर ( एससीआरबी )

पुलिस अधिकारियों तक पहुंचेगा आवेदनः आवेदन के सभी विकल्प भरनेऔर सब्मिटकरने केबादपुलिस अधिकारियों तक आवेदन पहुंच जाएगा । जहां अधिकारी इस बात की जांच करेंगे कि आवेदक को वाकई पास मिलनाचाहिए या नहीं । हो सकता है अधिकारी आवेदक को फोन भी करें । सभी जांच पड़ताल पूरी होने के बाद आवेदक को मेल पर लॉकडाउन पास प्राप्त हो जाएगा । पुलिस की ओर से यह साफ किया गया है किये पास सिर्फ आपातकालीन और बहुत जरूरी होने पर बनाया जायेगा!

लॉगिन के बाद आमजन व व्यावसायिक फर्म द्वारा उचित कारणों के साथ आवेदन किया जा सकता है। जिस पर संबंधित जिला प्रशासन / पुलिस / अन्य सक्षम अधिकारी द्वारा विचार किया जाकर आवश्यकतानुसार ऑनलाईन डिजीटल पास जारी होकर संबंधित आवेदक की ई-मेल आईडी पर प्राप्त हो सकेगा। इस लिंक (https://sso.rajasthan.gov.in/register>) पर क्लिक कर SSO ID बनाई जा सकेगी। 


You May Also Like

Monark Sharma from Jaipur has been recently appointed as scientist in the AH-64E combat fighter helicopter unit of the US Army.

The Rajasthan government has asked all schools to open admissions for the transgender community so as to help them benefit from education and employment opportunities.

PM Modi was travelling to Delhi from Hubli, Karnataka in a flight, which had to be diverted to Jaipur because of Delhi’s bad weather.

In the last 3-4 years, more than 15 new tea restaurants have been developed in the city, which are gaining popularity among Jaipurites.

There is no sure-shot way to success. No particular methodology or technique can work equally well for every individual.