MENU X
थानों और कंट्रोल रूम में भीड़ की जरूरत नहीं  - राजकॉप सिटीजन ऐप से बनवा सकेंगे लॉकडाउन व्हीकल पास


राजस्थान पुलिस के राजकॉप सिटीजन ऐप से अब शहर और शहर के बाहर जाने के लिए पास बनवा सकेंगे । फिलहाल यह सुविधा ऑफलाइन है और पास अजमेरी गेट स्थित पुलिस कंट्रोल रूम और थानों में बनाए जा रहे हैं । भीड़ कम करने के लिए पुलिस की ओर से यह कवायद की गई है । इसके लिए आवेदक को एसएसओ आईडी से राजकॉप सिटीजन एप पर लॉगइन करना होगा । जहां पास का ऑप्शन दिखाई देगा । लॉकडाउन पास पर क्लिक करने से ' पास रिक्वेस्ट का आवेदन खुलेगा । इसमें नाम , उम्र , मोबाइल नंबर , जिला , थाना , प्रोफेशन , मार्ग, वाहन संख्या, यात्रा के लिए कारण भरना होगा।

 - जनता की सुविधा के लिए यह कवायद की गई है आने वाले दिनों में ऐप में लगातार इम्पूवमेंट होते रहेंगे ।
 अफ़सर ( एससीआरबी )

पुलिस अधिकारियों तक पहुंचेगा आवेदनः आवेदन के सभी विकल्प भरनेऔर सब्मिटकरने केबादपुलिस अधिकारियों तक आवेदन पहुंच जाएगा । जहां अधिकारी इस बात की जांच करेंगे कि आवेदक को वाकई पास मिलनाचाहिए या नहीं । हो सकता है अधिकारी आवेदक को फोन भी करें । सभी जांच पड़ताल पूरी होने के बाद आवेदक को मेल पर लॉकडाउन पास प्राप्त हो जाएगा । पुलिस की ओर से यह साफ किया गया है किये पास सिर्फ आपातकालीन और बहुत जरूरी होने पर बनाया जायेगा!

लॉगिन के बाद आमजन व व्यावसायिक फर्म द्वारा उचित कारणों के साथ आवेदन किया जा सकता है। जिस पर संबंधित जिला प्रशासन / पुलिस / अन्य सक्षम अधिकारी द्वारा विचार किया जाकर आवश्यकतानुसार ऑनलाईन डिजीटल पास जारी होकर संबंधित आवेदक की ई-मेल आईडी पर प्राप्त हो सकेगा। इस लिंक (https://sso.rajasthan.gov.in/register>) पर क्लिक कर SSO ID बनाई जा सकेगी। 


You May Also Like

Tagore School located in Vaishali Nagar, Jaipur lately organised the Jaipur Music Festival, which was graced by a few legends from the music industry.

The situation of unemployment is increasing at a rapid rate in the country. This is a matter of serious concern.

Collectors need to visit at least 8 villages and stay there overnight in every 60 days. But not more than 28 collectors in the state (out of 33) have fulfilled their duty of staying overnight in villages.

With Bookaroo making its home in the center for two days, the children of Jaipur are in for a double treat.

For the first time in the history of Jaipur, the Pearl Academy, Jaipur presents the designer’s festival to celebrate design.