MENU X
जंतर मंतर जयपुर: जयपुर शासकों के ज्योतिषीय ज्ञान का उत्कृष्ट उदाहरण


सन 1738 में महाराजा सवाई जय सिह के द्वारा जंतर मंतर का निर्माण हुआ था। जयपुर का जंतर-मंतर वेधशाला एक ग्रह है प्रसिद्ध आर्किटेक्ट और बिल्डरों जो वास्तुकला और ग्रहों के आंदोलनों के जटिल और जटिल कानूनों के साथ अच्छी तरह से वाकिफ थे उन सब की मदद से जंतर मंतर का निर्माण हुआ था। यह जगह 19 राज्यो के खगोलीय उपकरणों का घर है। यूनेस्को ने इसकी संरचना, कार्यक्षमता और विरासत से प्रभावित होकर घोषणा की है कि यह  विश्व विरासत स्थल है । यह जगह दुनिया की सबसे बड़ी धुप घड़ी के रूप में प्रसिद्ध है ।  

जंतर मंतर के उपकरणों के बारे में क्या खास है?

यहां के सभी उपकरण विशेष रूप से डिजाइन किये गए है जो यहां की कार्यात्मक जरूरतों और उपयोग पर निर्भर करता है। इनमे से कुछ उपकरण पत्थर से बनाये गए है जबकि दूसरे उपकरणों को कच्चे मॉल के रूप में पीतल का उपयोग कर बनाया गया था। इस सामग्री का चयन करने के लिए वैज्ञानिक और खगोल विज्ञान के कारणों पर आधारित है। उपकरण बनाने के लिए आदर्श साधन डिजाइन सिद्धांतों की ज्योतिषीय गणनाओं पर प्राचीन भारतीय ग्रंथों के आधार पर बनाया गया है। वेदयशाला के उपकरणों के लिए किसी भी दृष्टि आवर्धक साधन की मदद के बिना खगोलीय पदों की एक करीब अवलोकन की सुविधा है।  

जंतर मंतर में 3 खगोलीय उपकरण है जो आकाशीय में काम कर सकते है खगोल विज्ञान के शास्त्रीय शाखा के अनुसार सिस्टम: इक्वेटोरियल प्रणाली, क्षितिज-जेनिथ स्थानीय सिस्टम और क्रांतिवृत्त प्रणाली।यह पता चला है कि एक विशिष्ट डिवाइस को कपल यंत्रप्रकार कहा जाता है एक सिस्टम से दूसरे के लिए परिवर्तन की सुविधा के लिए दिलचस्प है। इस खगोलीय उत्कृष्टता के कारण ही भारत में भी आदमी चाँद पर पहला कदम रख पाया है ये इसका बेहतरीन उदाहरण है।

मैं बेचैन हूँ; तुम मुझे विभिन्न उपकरणों के बारे में और अधिक बता सकते हैं?

जंतर मंतर में 18 तरफ के उपकरण रखे गए है । इनकी जानकारी इस प्रकार दी गई है ।

चक्र यंत्र : लोहे के दो विशाल चक्रों से बने इन यंत्रों से खगोलीय पिंडों केदिक्पात और तात्कालिक के भौगोलिक निर्देशकों का मापन किया जाता था। यह राशिवलय यंत्रों के उत्तर में स्थित है।

दक्षिण भित्ति यंत्र : इस यन्त्र को उचाई, मध्याह्न और जेनिथ दूरी के सदर्भ में खगोलीय पिंडो को नापने के लिए प्रयोग किया जाता है।

डिगमशा यंत्र : यह यंत्र वास्तव में एक स्तम्भ है 2 गाढ़ा बहरी घेरो में बीच खड़ा है। यह यन्त्र विशेष रूप से सूर्योदय और सूर्यास्त के समय की भविष्यवाणी करने के लिए बनाया गया है।यह भी सूर्य की दिगंश को मापने के लिए प्रयोग किया जाता है।

ध्रुव दर्शक पट्टिका : यह विभिन्न अन्य खगोलीय पिंडों के ध्रुव तारा रिश्तेदार स्थान खोजने के लिए प्रयोग किया जाता है।

जय प्रकाश यंत्र : जय प्रकाश यंत्रों का आविष्कार स्वयं महाराजा जयसिंह ने किया। कटोरे के आकार के इन यंत्रों की बनावट बेजोड़ है। जंतर मंतर परिसर में ये यंत्र सम्राट यंत्र और दिशा यंत्र के बीच स्थित हैं। इनमें किनारे को क्षितिज मानकर आधे खगोल का खगोलीय परिदर्शन और प्रत्येक पदार्थ के ज्ञान के लिए किया गया था। साथ ही इन यंत्रों से सूर्य की किसी राशि में अवस्थिति का पता भी चलता है। ये दोनो यंत्र परस्पर पूरक हैं ।

कपल यंत्र : इस यंत्र को उच्च अंत तकनीक का उपयोग कर बनाया गया था यह भूमध्यवर्ती प्रणालियों और दिगंश में खगोलीय पिंडों 'निर्देशांक को मापने के लिए प्रयोग किया जाता है।इस यंत्र से नेत्रहीन भी समन्वय प्रणाली के द्वारा आकाश के बिंदु को बदल सकता है ।

क्रांति वृत्त यंत्र : इस यंत्र की विशेष डिजाइन फीते जैसी है जो खगोलीय पिंडों को देशांतर में नापने में मदद करता है।  

लघु सम्राट यंत्र : लघु सम्राट यंत्र घ्रुव दर्शक पट्टिका के पश्चिम में स्थित यंत्र है। इसे धूप घड़ी भी कहा जाता है। इस यंत्र से स्थानीय समय की सटीक गणना होती है। लाल पत्थर से निर्मित यह यंत्र सम्राट यंत्र का ही छोटा रूप है इसीलिये यह लघुसम्राट यंत्र के रूप में जाना जाता है।

नाडी वलाया यंत्र : यह यंत्र प्रवेशद्वार के दायें भाग में स्थित है। यह दो गोलाकार फलकों में बंटा हुआ है। इनके केंद्र बिंदु से चारों ओर दर्शाई विभिन्न रेखाओं से सूर्य की स्थिति और स्थानीय समय का सटीक अनुमान लगाया जा सकता है।

यार राज यंत्र : इस यंत्र को विश्व का सबसे बड़ा एस्ट्रॉलैब के बीच में गिना जाता है। यह यंत्र 2.43 मीटर के प्रभावशाली आयामों के साथ बनाया गया है। यह हिंदू कैलेंडर की गणना करने के लिए प्रयोग किया जाता है और केवल एक वर्ष में एक बार ही काम आता है।

वृहत सम्राट यंत्र : यह यंत्र सूरज की रौशनी की छाया का प्रयोग कर समय का पता लगाने के लिए बनाया गया है। यह समय के उपाय हर 2 सेकेण्ड में पत्ता है। यह यंत्र 88 फिट ऊँची और 27 डिग्री के कोण पर बना है। यह मानसून और ग्रहण घोषणाओं के आगमन की घोषणा करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

उन्नतांश यंत्र : जंतर मंतर के प्रवेश द्वार के ठीक बांये ओर एक गोलकार चबूतरे के दोनो ओर दो स्तंभों के बीच लटके धातु के विशाल गोले को उन्नतांश यंत्र के नाम से जाना जाता है। यह यंत्र आकाश में पिंड के उन्नतांश और कोणीय ऊंचाई मापने के काम आता था। यह 4 खंडो में विभाजित है और इसके बीच में एक छेद है।

इसके आलावा अन्य खगोलीय उपकरण भी है जैसे कनाली यंत्र, मिश्रा यंत्र, पलभा यंत्र शामिल है।

कुछ रोचक जानकारिया ?

इस स्थान पर आप को और जानकारी मिलेगी।

  • श्रपोंगल के आवरण में रॉउंडहॉउसे 2008 में सिनेमा में सीधा प्रसारण दिखाया गया था।
  • पुस्तक परोसा डेल वेधयशाला के कवर पेज के लिए लिया गया था ?
  • 2006 की फिल्म पतन के लिए।

एयरपोर्ट से पहुँचने के लिए कैसे करें

टैक्सी या ऑटो के माध्यम से

1. रेलवे स्टेशन से दूरी जवाहर लाल नेहरू (जेएलएन मार्ग) के माध्यम से 11.9 किलोमीटर दूर है।

2. टैक्सी या ऑटो से 30-35 मिनट में जंतर मंतर पहुंचेगी।

3. एक तरफ का ओटो का किराया 120 - 150 भारतीय रुपया।

4. एक तरफ का टैक्सी का किराया 150 - 200 भारतीय रुपया।

सार्वजनिक परिवहन के माध्यम से

1. बस सेवा जंतर मंतर के लिए उपलब्ध है।

2. आप तोतो से जवाहर सर्किल तक पहुचते है जवाहर सर्किल से आप को बस एसी - 2 मिलेगी वो आप को 500 मीटर की दुरी पर चौपड़ पर छोड़ देगी। वहां से आप पैदल से 15 मिनट में पहुँच जायेगे।

3. यह अधिक से अधिक 1 घंटे का समय लगेगा।

4. टिकट और जानकारी के लिए - +91 141 223 3509

रेलवे स्टेशन से

टैक्सी या ऑटो के माध्यम से

1. रेलवे स्टेशन से दूरी (स्टेशन रोड के माध्यम से) 4.2 किमी दूर है।

2. टैक्सी या ऑटो से15-20 मिनट में जंतर मंतर पहुंचेगी।

3. एक तरफ का ओटो का किराया 50 - 70 भारतीय रुपया।

4. एक तरफ का टैक्सी का किराया 70 - 100 भारतीय रुपया।

सार्वजनिक परिवहन के माध्यम से

1. बस सेवा जंतर मंतर के लिए उपलब्ध है।

2. आप स्टेशन सर्किल एक पहुच जायेगे तो फिर आप को मिनी बस गलता गेट ले जायगी वहां 450 मीटर की दुरी पर आप को त्रिपोलिया बाजार पर छोड़ देगी वहां से 15 मिनट की पैदल की दुरी है।

3. यहां आने में 20 - 25 मिनट का समय लगेगा।

पार्किंग सूचना

उपलब्ध पार्किंग

किराया - 20 बाइक या कार प्रति 30 भारतीय रुपया।

अधिक जानकारी के लिए - 0141 408 8888

 

 


You May Also Like

Siddharth Malhotra and Katrina Kaif who were in the Pink City lately to promote their movie.

Kamla Bai Charitable Trust in Jaipur is working to eliminate social differences through education. They educate masses, feed the hungry and do other social tasks.

All the claims and promises of constructing 6 lane Jaipur-Gurgaon highways are proven to be false.

By the end of this year, Jaipur is going to witness a Mega Science event at the Regional Science Centre and Science Park, Shastri Nagar, Jaipur.

The eagerly awaited Rajasthan Foundation Day began on Sunday with several mesmerizing performances by Jawans, Folk SIngers and Camels.